A+   A-
अनुसरण करें  

पी.एम.सी. सेवाएँ

डाटा काम और सूचना प्रौद्योगिकी परामर्शी सेवाओं के क्षेत्र में एस.टी.पी.आई. द्वारा क्रियान्वित की जा रही प्रमुख महत्वपूर्ण परियोजनाएं निम्नलिखित हैं:-

1.0 खजानेनेट (राजकोष विभाग, कर्नाटक सरकार)

खजानेनेट कर्नाटक सरकार द्वारा आरम्भ की गई एक परियोजना है जो राज्य में सभी राजकोषों को आपस में जोड़ने के लिए है। वीएसएटी का उपयोग करते हुए राजकोषों को बंगलौर में खजाना भवन में स्थित एक केन्द्रीयकृत हब से अंत:सम्बद्ध किए जाते हैं। डाटा सेवाएं प्रदान करने के लिए सेटेलाइट नेटवर्क आधारित वीएसएटी को डिजाइन किया गया है। वीएसएटी हब नेटवर्क पर्याप्त रूप से कम उपकरणों के साथ तैयार किया गया है।

राज्य में कोषागार राज्य सरकार के वित्तीय लेन-देन (प्राप्ति और भुगतान, दोनों) का संचालन करते हैं और वित्तीय लेन-देन का समुचित लेखा रखते हैं। राजकोष विभाग का कार्य राज्य के सभी जिलों और तालुकों, जिनकी संख्या 215 है, में फैला हुआ है। ये सभी राजकोष कर्नाटक सरकार के सभी लेन-देन के लिए वेतन और लेखा कार्यालय के रूप में काम करते हैं। सभी एमआईएस रिपोर्टें और वेतन, पेंशन पर हुए खर्च, जमा धनराशि और राजस्व प्राप्तियों से सम्बन्धित रिपोर्टें सरकार को और लेखापरीक्षा कार्यालय को भी उपलब्ध कराई जाएंगी। कल्याण उपायों में और अभिशासन में सरकार की विकास गतिविधियों में सरकार की निरंतर बढ़ रही भूमिका से सरकारी खर्च कई गुणा बढ़ गया है और इस प्रकार राजकोषों के कार्य भी उसी अनुपात में बढ़ गए हें।

डाटा के महत्व को ध्यान में रखते हुए, जो इस नेटवर्क में स्टोर किए जाएंगे, धारवाड़ में एक डिजास्टर रिकवरी सेंटर की योजना तैयार की गई है। डिजास्टर रिकवरी सेंटर को वीएसएटी डीवीबी के साथ और 128 केबीपीएस के एससीपीसी के एक अलग लिंक के साथ भी जोड़ा जाता है (एक अलग एंटीना धारवाड़ की तरफ है)।

डिजास्टर रिकवरी सेंटर केवल डाटा दिखाने का प्रयोजन सिद्ध करेगा और इसमें किसी वीएसएटी एनएमएस प्रतिकृति की परिकल्पना नहीं की गई है।

एस.टी.पी.आई. को खजानेनेट परियोजना के लिए परामर्शी और परियोजना प्रबंधन के लिए प्रमुख नोडल एजेंसी के रूप में नामित किया गया है। राजकोष विभाग, कर्नाटक सरकार का खजानेनेट पहले से ही प्रचालन में है और इसका प्रबंधन एस.टी.पी.आई. द्वारा 24x7 के आधार पर (दिन-रात) किया जा रहा है।

2.0 वाणिज्यिक कर विभाग, कर्नाटक सरकार

भारत में प्रक्रिया के उदारीकरण के साथ राज्यों में कराधान के तरीके की स्वाभाविक रूप से पुनरीक्षा की जा रही थी। भारत के राज्य अभी भी पुरानी सिंगल पाइंट कर प्रणाली अपना रहे हैं जबकि विश्व में अपेक्षाकृत अधिक उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में वैट (मूल्य वर्द्धित कर) प्रणाली अपनाना आरम्भ कर दिया गया है।

वैट विभिन्न चरणों पर मूल्य वर्द्धन पर कर की बहु-स्थलों पर उगाही है। अत: वैट प्रशासन के लिए लेन-देन पर नजर रखना अपेक्षित है। स्वाभाविक रूप से डाटा का परिमाण बड़ा है और इसलिए एक बड़ी और कुशल सूचना प्रणाली अवसंरचना का होना जरूरी है। कर्नाटक सरकार ने इस संबंध में योजनाएं बनानी आरम्भ की हैं और एस.टी.पी.आई. की सहायता से परियोजना का सफलतापूर्वक कार्यान्वयन किया है।

कर्नाटक में वैट का संचालन राज्य में फैले लगभग 90 स्थानों पर नेटवर्क्ड वातावरण में किया जाता है। कर दाता के साथ टीपीएस (कर दाता सेवा) के माध्यम से इंटरफेस किया जाएगा जिनमें बड़े स्थानों पर एलवीओ (स्थानीय वैट कार्यालय) और अपेक्षाकृत छोटे स्थानों पर वीएसओ (वैट उप कार्यालय) होंगे। ये कार्यालय प्रत्येक एलवीओ में एक सर्वर के साथ पूर्ण रूप से कम्प्यूटरीकृत होंगे और क्लाइंट-सर्वर आर्किटेक्चर में एक एलएएन पर होंगे। वीएसओ में कोई स्थानीय सर्वर नहीं होगा और वह सम्बन्धित एलवीओ के सर्वर पर निर्भर होगा। एलवीओ और वीएसओ में प्रत्येक एलएएन वीएसएटी के माध्यम से केन्द्रीय सर्वर के साथ अंत:सम्बद्ध होंगे जिसमें राज्य स्तर पर कर के संचालन के लिए राज्य डाटा विद्यमान होंगे और एमआईएस रिपोर्टें तैयार की जाएंगी।

एस.टी.पी.आई. ने एक व्यवहार्य अध्ययन किया है और खजानेनेट की मौजूदा हब सुविधा को शेयर करने के लिए डिजाइन तैयार किया है – खजाना नेटवर्क का सुझाव दिया गया है। राजकोष विभाग, कर्नाटक सरकार का खजानेनेट पहले से ही प्रचालन में है और इसका प्रबंधन एस.टी.पी.आई. द्वारा 24x7 के आधार पर (दिन-रात) किया जा रहा है।

3.0 यूरोप स्टार सेटेलाइट के लिए संचार प्रणाली मानीटरिंग उपकरण (सीएसएमई)

सीएसएमई सुविधा (संचार प्रणाली और मानीटरिंग उपकरण) के माध्यम से आईएसएन क्षेत्र (भारत/नेपाल/श्री लंका) को कवर करते हुए डाउनलिंक सिगनलों की मानीटरिंग करने के लिए एस.टी.पी.आई., नेटवर्क आपरेशन केन्द्र, बंगलौर में यूरोप स्टार टेलीपोर्ट सुविधा स्थापित है और यह फ्रेम-रिले सर्किट के जरिये सीएसएमएन सुविधा टोलोहाउस, फ्रांस से जुड़ी हुई है। सीएसएमई का सेटअप (आईएसएन) क्षेत्र पर केन्द्रित मल्टीपल हाई-पावर्ड बीम्स (कु बैंड) की मानीटरिंग करने में और कु-बैंड यूरोप स्टार ट्रांसपोंडर्स के लिए कैरीज की स्थिति पर रिपोर्ट तैयार करने में सक्षम है।

यह सैट-अप कार्य कर रहा है और इसका प्रबंधन एस.टी.पी.आई. द्वारा 24x7 के आधार पर (दिन-रात) किया जा रहा है।

» बंगलौर में सीएसएमई सुविधा का अनुरक्षण।

» यूरोप स्टार टीम की तर्ज पर सीएसएमई सुविधा का उन्नयन।

» सेलिब्रेशन परीक्षण के लिए सहायता

4.0 पेनएमसेट सेटेलाइट्स के लिए कैरियर मानीटरिंग प्रणाली (सीएमएस)

बंगलौर स्थित एस.टी.पी.आई. का केन्द्र पेनएमसेट पीएएस-7 सेटेलाइट और हाल ही में आरम्भ किए गए पीएएस-10 सेटेलाइट, जिसमें भारतीय समुद्री क्षेत्र (आईओआर) को कवर किया गया है, के लिए भी सीएमएस सुविधा (कैरियर मानीटरिंग प्रणाली) को सहायता दे रहा है एस.टी.पी.आई. भारत में स्थित सीएमएस प्रणाली मल्टीपल हाई-पावर्ड बीम्स (कु बैंड) की मानीटरिंग करने में और कु-बैंड यूरोप स्टार ट्रांसपोंडर्स के लिए कैरीज की स्थिति पर रिपोर्ट तैयार करने में सक्षम है।

यह सैट-अप एस.टी.पी.आई. द्वारा मुहैया किए गए लीज्ड लाइन इंटरनेट सर्किट द्वारा अटलांटा में पीएएस एनओसी केन्द्र से जुड़ा हुआ है।

यह सैट-अप कार्य कर रहा है और इसका प्रबंधन एस.टी.पी.आई. द्वारा 24x7 के आधार पर (दिन-रात) किया जा रहा है।

» बंगलौर में सीएसएमई सुविधा का अनुरक्षण।

» यूरोप स्टार टीम की तर्ज पर सीएसएमई सुविधा का उन्नयन।

» सेलिब्रेशन परीक्षण के लिए सहायता

5.0 एस.टी.पी.आई. में नोरटेल ने नेटवर्क्सहायता हब

एस.टी.पी.आई. नोरटेल परियोजनाओं के विकास के लिए हब प्रबंधन को 24x7 (दिन-रात) सहायता देने के लिए 1996 से नोरटेल उपकरणों की व्यवस्था कर रहा है क्योंकि बंगलौर की एशिया प्रशांत सागर क्षेत्र में नोरटेल के एक प्रमुख विकास केन्द्र के रूप में पहचान की गई है।

एस.टी.पी.आई. ने नोरटेल को बंगलौर और अन्य शहरों में उनके भागीदारों, जिनमें मैसर्स इंफोसिस टेक्नोलॉजिस्ट, मैसर्स विप्रो और मैसर्स सस्केन कम्युनिकेशंस शामिल हैं, के स्थलों से सम्बद्धता स्थापित करने के लिए सुविधा दी है।

नोरटेल ने बंगलौर, मुम्बई और दिल्ली में बिक्री और विपणन कार्यालय खोले हैं जो नोरटेल-भारत के लिए व्यावसायिक केन्द्र हैं जहां एस.टी.पी.आई. नोरटेल को बैंडविड्थ और अवसंरचनात्मक स्थापन सेवाएं प्रदान करने में समर्थ है।

नोरटेल के प्रति एस.टी.पी.आई. दल की जिम्मेदारियों में निम्नलिखित शामिल हैं:-

» एनओसी में नोरटेल हब के लिए 24x7 (दिन-रात) सहायता

» भागीदार के स्थलों के लिए नोरटेल को 24x7 (दिन-रात) सहायता

» बैंडविड्थ की मानीटरिंग और एनओसी का अपटाइम प्रबंधन

» अवसंरचना का उन्नयन और मालसूची का प्रबंधन

6.0 निकनेट

इस परियोजना में एनआईसी, नई दिल्ली में एक एकीकृत नेटवर्क प्रचालन केन्द्र और इंटरनेट डाटा केन्द्र की स्थापना करने की परिकल्पना की गई है। इस उद्देश्य कस्टॉमाइज्ड नेटवर्क प्रबंधन टूल्स का उपयोग करके एकीकृत नेटवर्क प्रचालन केन्द्र से निकनेट का प्रबंधन करने में समर्थ होना है।

एनआईसी, नई दिल्ली ने आईएनओसी (एकीकृत नेटवर्क प्रचालन केन्द्र) परियोजना एस.टी.पी.आई., बंगलौर को कार्यान्वयन के लिए सौंपी है। एस.टी.पी.आई., बंगलौर राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र के लिए परियोजना प्रबंधन एजेंसी है।

एनआईसी के लिए हाथ में ली गई परियोजनाओं के एक भाग के रूप में, एस.टी.पी.आई., बंगलौर ने आईएनओसी और एकीकृत डाटा केन्द्र की अवसंरचना को डिजाइन और क्रियान्वित किया है।

नेटवर्क आपरेशन्स केन्द्र एक मल्टी लेयर प्रणाली होगी जो पूरे एनओसी के जरिये देश भर में फैले एनआईसी के नेटवर्क का प्रबंधन, मानीटर और नियंत्रण करने की क्षमता प्रदान करती है।

एस.टी.पी.आई. के दल ने एनआईसी के नेटवर्क का विस्तृत अध्ययन आरम्भ किया है और नेटवर्क प्रबंधन के लिए एनआईसी की आवश्यकताओं का मूल्यांकन किया है। एसटीपीआई.-बी ने एनआईसी के लिए एक एकीकृत और केन्द्रीयकृत सूचना प्रौद्योगिकी प्रबंधन प्रणाली तैयार करने का प्रस्ताव किया है जो रिस्टोरेशन समय के प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी संसाधनों को इष्टतम, सेवा स्तरों और व्यवसाय निरंतरता के संदर्भ में एनआईसी की सहायता करेगी।

प्रस्तावित केन्द्रीयकृत एनएमएस प्रणाली पूरे देश में नेटवर्क तत्वों को पोल करती है और डाटा को एनआईसी मुख्यालय, नई दिल्ली में मिलाती है। एनओसी प्रणालियों की आयोजना मानीटर करने और उन नेटवर्क तत्वों के आंकड़ों को एकत्र करने के लिए की जाती है जो एसएनएमपी तथा नॉन-एसएनएमपी प्रोटोकोलों का समर्थन करते हैं। डाटाबेस, जो आवधिक आधार पर अद्यतन किया जाता है और जो हैदराबाद में डिजास्टर रिकवरी सेंटर में पूर्णकालिक एनएमएस की सहायता करता है, की पूर्ण प्रतिकृति के साथ उच्चतम स्तर पर एनओसी की कमी की आयोजना की जाती है।

एस.टी.पी.आई. ने प्रदर्शन प्रणालियों जेसे अपेक्षित पूंजीगत निवेश की पहचान करने के संदर्भ में वैल्यू एडिड परामर्श दिया है ताकि दोनों अवसंरचना स्थापनाओं को कुशलतापूर्वक पूरा किया जा सके।

7.0 बिजनेस पार्क्स ऑफ मारीशस लिमिटेड (बी.पी.एम.एल.) – अंतर्राष्ट्रीय परियोजना

बिजनेस पार्क्स ऑफ मारीशस लिमिटेड एक कम्पनी है जिसकी स्थापना मारीशस सरकार द्वारा की गई है और उसे देश में नए बिजनेस पार्कों का विकास और प्रबंधन करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बीपीएमएल का पहला कार्य इबेन साइबर सिटी का विकास करने का रहा है।

इबेन साइबर सिटी में बहु जोनों का प्रस्ताव किया गया है। प्रत्येक जोन में एक विशिष्ट गतिविधि पर ध्यान संकेन्द्रित किया गया है जिनका सामूहिक उद्देश्य ‘साइबर सिटी’ की आवश्यकताओं को पूरा करना है, जैसाकि पूर्ववर्ती पैराग्राफों में उल्लेख किया गया है। सभी गतिविधियों के प्रावधान के साथ इस आत्मनिर्भर ज्ञान (नॉलेज) पार्क से नए बिजनेस कल्चर का सृजन होने की आशा है।

एस.टी.पी.आई. की भूमिका पूर्ण संचार अवसंरचना और सेवाओं को क्रियान्वित करने के लिए बिजनेस पार्क्स ऑफ मारीशस के लिए परामर्शी सेवाएं प्रदान करना है।

सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क्स ऑफ इंडिया, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार इबेन साइबर सिटी परियोजना के लिए नोडल परामर्शदात्री एजेंसी के रूप में कार्य कर रहा है।

इस परियोजना में एस.टी.पी.आई. की भूमिका:

» परियोजना प्रबंधन और परामर्श
» नेटवर्क और संचार अवसंरचना की पहचान
» कार्यालय अवसंरचना की पहचान
» नेटवर्क आपरेशन्स सेंटर का एकीकरण
» नेटवर्क घटकों की मानीटरिंग करने के लिए डिसप्ले प्रणाली
8.0 एसडब्ल्यूएएन परियोजनाएं

जिला और तालुक स्तर पर फैले कार्यालयों का कम्प्यूटरीकरण करने के लिए राज्य सरकार के विभागों से प्राप्त परियोजनाओं की सूची निम्नलिखित है:-

» कर्नाटक राज्य के नेटवर्क का व्यापक क्षेत्र (केएसडब्ल्यूएएन)
» मध्य प्रदेश राज्य के नेटवर्क का व्यापक क्षेत्र (एमपीएसडब्ल्यूएएन)
» छत्तीसगढ़ राज्य के नेटवर्क का व्यापक क्षेत्र (सीएसडब्ल्यूएएन)



Bootstrap Image Preview


एस.टी.पी.आई. - गांधीनगर कार्यालय: 9वीं मंजिल, गिफ्ट वन टॉवर, ब्लॉक-56, रोड़-5 सी, ज़ोन-5, गिफ्ट सिटी, गांधीनगर - 382 355 (गुजरात)
दूरभाष : +91 079 66748531, 66748532 फैक्स:+91 079 66748533  ई-मेल आईडी: gnr.info@stpi.in

मुख्य पृष्ठ / अन्य महत्वपूर्ण लिंक / साइटमैप / सूचना का अधिकार / कैरियर

bar
© 2018 एस.टी.पी.आई. - गांधीनगर सभी अधिकार सुरक्षित.     वेबसाइट नीतियां | अस्वीकृति | नियम और शर्तें | सहायता

यह वेबसाइट एसटीपीआई-गांधीनगर के स्वामित्व में संचालित है |
पृष्ठ अंतिम बार जून 04, 2018 को अपडेट किया गया |